कुलगाम में शहीद हुए प्रदीप नैन की सोमवार को अंतिम यात्रा में शामिल होने आस पास के गांवों के हजारों लोग पहुंचे

जींद,

कुलगाम आतंकी हमले में शहीद हुए हरियाणा के जींद जिले के जाजनवाला गांव के प्रदीप नैन के अंतिम दर्शन के लिए उनके गांव बड़ी संख्या में लोग और आर्मी के जवान पहुंचे. आतंकियों से लोहा लेते हुए प्रदीप नैन शहीद हो गए थे. सोमवार को शहीद को अंतिम विदाई दी गई. इस मौके पर वहां मौजूद हर एक की आंखों में आंसू थे.

शहीद प्रदीम नैन को श्रद्धांजलि देने और बड़ी संख्या में  आर्मी के अधिकारी, पूर्व अधिकारी., जवान और पुलिस के जवान पहुंचे हुए थे. साथ ही आसपास के इलाके के लोग भी शहीद को अंतिम यात्रा में शामिल हुए. मौके पर आर्मी वेटरन एसोसिएशन के जोनल जोनल प्रेसिडेंट राजबीर सिंह ने बताया शहादत से पहले 5 आतंकवादियों को मार गिराया था.

राजबीर सिंह ने कहा कि पैरा कमांडो लांस नायक प्रदीप नैन जम्मू कश्मीर के कुलगाम में जवानों की टुकड़ी को लीड कर रहे थे. गोली लगने से प्रदीप की शहादत हुई. प्रदीप को श्रद्धांजलि देने के लिए आसपास के गांव के लोग और सभी ग्रामीण पहुंचे हुए थे. इस दौरान मौके पर स्थानीय प्रशासन भी मौजूद थी.

राज्यसभा सांसद सुभाष बराला, कैबिनेट मंत्री कमल गुप्ता और स्थानीय विधायक रामनिवास सूरज खेड़ा भी अंतिम विदाई में शामिल हुए. इस दौरान प्रदीप अमर रहे के नारों से उनका गांव गूंजता रहा. पूरे जाजनवाला गांव में दो दिन से किसी घर में चूल्हा भी नहीं चढ़ा है.आस पास के गांवों के हजारों लोग अंतिम यात्रा में शामिल हुए.

शहीद की पत्नी के जज्बे को सलाम
जब शहीद लांस नायक प्रदीप नैन की अंतिम यात्रा निकली तो प्रदीप की गर्भवती पत्नी मनीषा नैन अंतिम यात्रा के पीछे पीछे गर्भ में पल रहे अपने बच्चे को संभलाते हुए साथ-साथ चल रही थी. घर से एक किलोमीटर दूर स्थित शमशान तक  पत्नी मनीषा नैन पैदल ही पहुंची. मनीषा का कहना था कि मैं इसलिए नहीं रो रही हूं कि कहीं शहीद की आत्मा को ठेस न पहुंचे.