रेलवे की भर्ती परीक्षा पेपर लीक में विधायक बेदी राम और विपुल दुबे के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी हुआ

लखनऊ

रेलवे ग्रुप डी की भर्ती परीक्षा में पेपर लीक मामले में सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (सुभासपा) के विधायक बेदी राम (MLA Bedi Ram) और निषाद पार्टी के विधायक विपुल दुबे (Vipul Dubey) के खिलाफ गैर जमानती वारंट (NBW) जारी हुआ है. इस मामले में विधायक बेदी राम और विपुल दुबे समेत 19 आरोपियों के खिलाफ मुकदमा चल रहा है.  

गाजीपुर की जखनियां सीट से सुभासपा विधायक बेदी राम और भदोही की ज्ञानपुर सीट से निषाद पार्टी के विधायक विपुल दुबे के खिलाफ कोर्ट ने गैर जमानती वारंट जारी किया है. विशेष न्यायाधीश पुष्कर उपाध्याय ने दोनों विधायकों समेत एक दर्जन आरोपियों के अदालत में हाजिर न होने पर यह NBW जारी किया है. कोर्ट ने कृष्णा नगर इंस्पेक्टर को 26 जुलाई तक गिरफ्तारी वारंट तामील करने के निर्देश दिए हैं.  

एसटीएफ ने फरवरी 2006 में बेदी राम और विपुल दुबे को पेपर लीक मामले में अरेस्ट किया था. इस मामले में दोनों के खिलाफ गैंगस्टर एक्ट लगा था. एसटीएफ ने आरोपियों के पास से रेलवे भर्ती ग्रुप डी की परीक्षा का प्रश्न पत्र बरामद होने का दावा किया था. जांच के बाद पुलिस ने चार्जशीट भी दाखिल कर दी थी. कोर्ट ने बेदी राम और विपुल दुबे की हाजिरी माफी की अर्जी को भी खारिज कर दिया है.

9 में से 8 मामले पेपरलीक से जुड़े हुए

फरवरी 2022 में विधानसभा चुनाव लड़ने के दौरान बेदी राम द्वारा दिए गए शपथ पत्र से सामने आया था कि विधायक पर राजस्थान, मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश में रेलवे और पुलिस भर्ती पेपर लीक से जुड़े 8 मुकदमे दर्ज रहे हैं. बेदी राम पर दर्ज कुल 9 मुकदमों में आठ पेपर लीक से जुड़े हैं. 2009 में जयपुर में एसओजी ने रेलवे भर्ती पेपर लीक मामले में बेदी राम पर एफआईआर दर्ज की थी. मध्य प्रदेश लोक सेवा आयोग का पेपर लीक कराने के मामले में भी एसटीएफ भोपाल ने मामला दर्ज किया था.  

2006 में रेलवे पेपर लीक मामले में लगा था गैंगस्टर एक्ट

इसी तरह 2006 में रेलवे का पेपर लीक कराने के मामले में लखनऊ के कृष्णा नगर में बेदी राम पर गैंगस्टर एक्ट लगा था. इसके बाद 2008 में रेलवे का पेपर लीक कराने में गोमती नगर में मुकदमा दर्ज हुआ था. फिर 2014 में पेपर लीक कराने के मामले में आशियाना में बेदी राम पर एफआईआर दर्ज हुई थी. इतना ही नहीं 21 अगस्त 2014 को यूपी एसटीएफ गैंगस्टेर एक्ट में बेदी राम की लखनऊ व जौनपुर की 8 प्रॉपर्टी कुर्क कर चुकी है.  

पेपर लीक के 8 मामलों में दायर हो चुकी चार्जशीट

साल 2010 में भी जौनपुर के मडियाहू में बेदी राम पर पुलिस भर्ती पेपर लीक करने में एफआईआर दर्ज हुई थी. फिलहाल, पेपर लीक से जुड़े सभी आठ मामलों में पुलिस चार्जशीट लगा चुकी है. कोर्ट में चार्जफ्रेम/आरोप तय हो चुके हैं. बेदी राम गाजीपुर की जखनियां विधानसभा सीट से विधायक हैं. वह मूलरूप से आजमगढ़ के रहने वाले हैं. बेदी राम को सुभासपा अध्यक्ष और यूपी के मंत्री ओम प्रकाश राजभर का करीबी माना जाता है.