मैक्रों ने कहा, “हम एक नये सहयोग की शुरुआत करेंगे और मिराज 2000-5एस भेजेंगे

पेरिस

 फ्रांस यूक्रेन को मिराज लड़ाकू विमानों की आपूर्ति करेगा और उसके सैनिकों को प्रशिक्षित करेगा। फ्रांसीसी राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ने फ्रांसीसी मीडिया के साथ एक साक्षात्कार में यह बात कही।

मैक्रों ने  कहा, "हम एक नये सहयोग की शुरुआत करेंगे और मिराज 2000-5एस भेजेंगे।" समाचार एजेंसी शिन्हुआ ने बताया कि फ्रांसीसी नेता ने 4,500 सैनिकों की एक पूरी यूक्रेनी बटालियन को प्रशिक्षित करने का भी वादा किया, जिसे युद्ध के मैदान में तैनात किया जाना है।

उन्होंने कहा कि फ्रांसीसी लड़ाकू विमानों की डिलीवरी से "तनाव नहीं बढ़ेगा" और वादा किया कि "इनका इस्तेमाल नागरिकों पर बमबारी करने के लिए नहीं किया जाएगा"। इसके अतिरिक्त, मैक्रों ने यूक्रेन में सैन्य प्रशिक्षकों को भेजने की संभावना से भी इनकार नहीं किया।

मिराज 2000 एक फ्रांसीसी बहु-उद्देशीय, एक इंजन वाला चौथी पीढ़ी का लड़ाकू विमान है, जिसे दासो एविएशन द्वारा बनाया गया है।

फरवरी के अंत में पेरिस में एक बैठक के दौरान, मैक्रों ने सुझाव दिया था कि यूरोपीय देशों को यूक्रेन में सैनिकों को भेजना चाहिए। लेकिन जर्मनी, ब्रिटेन, स्पेन और इटली सहित कई अन्य यूरोपीय देश उनकी राय से सहमति नहीं हुए।

फरवरी में मैक्रों की टिप्पणियों के बाद, रूस ने चेतावनी दी कि यदि नाटो यूक्रेन में सैनिकों को भेजता है तो संगठन और रूस के बीच सीधा संघर्ष शुरू हो सकता है।

मैक्रों ने डी-डे लैंडिंग की 80 वीं वर्षगांठ के उपलक्ष्य पर उत्तरी फ्रांस में नॉर्मंडी के ओमाहा बीच पर एक समारोह की अध्यक्षता की।

फ्रांसीसी मीडिया बीएफएमटीवी के एक लाइव प्रसारण के अनुसार, अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन और यूक्रेनी राष्ट्रपति वोलोदिमीर ज़ेलेंस्की सहित लगभग 20 राष्ट्राध्यक्षों ने इस कार्यक्रम में भाग लिया।

समारोह के लिए फ्रांस जाते समय अमेरिकी राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) जैक सुलिवन ने मंगलवार को संवाददाताओं से कहा था कि अमेरिका यूक्रेन में सैन्य सलाहकारों को नहीं भेजने की अपनी नीति पर कायम रहेगा।

फ्रांसीसी तट पर 6 जून 1944 को नॉर्मंडी लैंडिंग द्वितीय विश्व युद्ध में एक महत्वपूर्ण मोड़ साबित हुआ था और नाजी जर्मनी के खिलाफ 'मित्र देशों' की जीत का मार्ग प्रशस्त किया था।

यूक्रेन में सेना तैनात करने की कोई योजना नहीं है : नाटो प्रमुख

 उत्तरी अटलांटिक संधि संगठन (नाटो) के महासचिव जेन्स स्टोलटेनबर्ग ने गुरुवार को कहा कि नाटो की यूक्रेन में सेना तैनात करने की कोई योजना नहीं है। फिनलैंड की अपनी दो दिवसीय यात्रा के दूसरे दिन फिनलैंड के राष्ट्रपति अलेक्जेंडर स्टब के साथ संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में स्टोलटेनबर्ग ने कहा, “हम इस बात पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं कि यूक्रेन को अपने समर्थन के लिए एक मजबूत ढांचा कैसे स्थापित कर सकते हैं।” उन्होंने कहा कि फिनलैंड की यूक्रेन में सेना भेजने की कोई योजना नहीं है। फिनलैंड यूक्रेन का समर्थन करने के विकल्पों के बारे में सहयोगियों के साथ चर्चा कर रहा है। उन्होंने कहा कि उन्हें रूस से किसी भी नाटो सहयोगी के खिलाफ कोई आसन्न सैन्य खतरा नहीं दिख रहा है, और संघर्ष की समाप्ति के बाद भी नहीं।

 

Recent Posts