अलमारी में बने बंकर में छिपे थे कुलगाम में मारे गए हिजबुल के आतंकी, देखें दहशतगर्दों का ठिकाना

कुलगाम

जम्मू कश्मीर में सेना द्वारा आतंकवादियों के सफाए के लिए लगातार अभियान चलाए जा रहे हैं. शनिवार को कुलगाम जिले में दो जगहों पर हुई मुठभेड़ में  6 आतंकियों को सुक्षाबलों ने ढेर कर दिया. कुलगाम के मोदरगाम मुठभेड़ स्थल से दो आतंकवादियों के शव बरामद किए गए जबकि चिन्नीगाम स्थल से रविवार को चार शव बरामद किए गए. इस बीच चिन्निगाम फ्रिसल से एक ऐसा वीडियो सामने आया है जो हैरान करने वाला है.

दरअसल शनिवार रात को मुठभेड़ में मारे गए हिजबुल मुजाहिदीन के चार आतंकवादियों ने चिन्निगाम फ्रिसल में एक घर के अंदर ऐसा ठिकाना बना रखा था जिसका वीडियो देखकर सुरक्षाबल भी हैरान हैं. आतंकियों ने एक अलमारी के अंदर बंकर बना रखा था.

घर के अंदर आतंकियों का खुफिया ठिकाना
कुलगाम के चिनीगाम क्षेत्र जिस घर में आतंकी छिपे थे, वहां उन्होंने अलमारी के पीछे बंकर बना रखा था. मुठभेड़ में हिजबुल के चारों आतंकियों के मारे जाने के बाद सुरक्षाबलों ने घर के अंदर तलाशी ली तो उन्हें तयखाना मिला. इसका इस्‍तेमाल आतंकी खुद छिपने और हथियार व गोलाबारूद छिपाने के लिए करते थे. कुलगाम के चिन्निगाम में मारे गए सभी आतंकवादी हिजबुल मुजाहिदीन से जुड़े हुए थे.

ड्रॉवर के अंदर सीक्रेट बंकर

वायरल हो रहे वीडियो में सुरक्षाकर्मी एक घर के अंदर हैं जहां अलमारी के पीछे आतंकियों ने सीक्रेट बंकर बना रखा है. जवान जब एक कमरे में लगी कपड़े की अलमारी को देखते हैं तो उन्हें कुछ शक सा होता है. जैसे अलमारी के नीचे की तरफ बना ड्रॉवर को खोला जाता है तो इसमें अंदर की तरफ एक रास्ता जाता दिखा. फिर यहां लाइट जलाकर एक शख्स को अलमारी के अंदर बने सीक्रेट रास्ते के जरिए बंकर तक भेजा गया और वीडियो रिकार्डिंग की गई.

इस दौरान साफ देखा जा सकता है कि अलमारी के पीछे की तरफ आतंकियों ने एक सीक्रेट बंकर बना रखा था. जिसमें वह खुद भी छिप सकते थे और हथियार भी छिपा सकते थे. बताया जा रहा है कि कुलगाम में मारे गए आतंकी इसी बंकर में छिपे थे.

दो जवान भी हुए थे शहीद

आपको बता दें कि कुलगाम जिले के दो गांवों में शनिवार को मुठभेड़ शुरू हुई थी. पहली मुठभेड़ मोदरगाम गांव में हुई, जहां पैरा कमांडो लांस नायक प्रदीप नैन कार्रवाई में शहीद हो गए. सुरक्षा बलों ने खुफिया जानकारी के आधार पर अभियान शुरू किया और कम से कम दो से तीन आतंकवादियों को उनके ठिकाने पर घेर लिया.

वहीं दूसरी मुठभेड़ फ्रिसल चिनिगाम गांव में हुई, जब सुरक्षा बलों को इलाके में संभावित लश्कर-ए-तैयबा के आतंकवादियों के बारे में सूचना मिली. ऑपरेशन के दौरान प्रथम राष्ट्रीय राइफल्स के हवलदार राज कुमार शहीद हो गए. गांव पहुंचने पर, एक घर में छिपे आतंकवादियों ने सुरक्षा बलों पर अचानक से गोलीबारी शुरू कर दी, जिसके बाद मुठभेड़ शुरू हो गई.

मुठभेड़ में एक पैरा कमांडो समेत दो सैन्यकर्मी शहीद हो गए. अभियान के बारे में बताते हुए जम्मू-कश्मीर के पुलिस महानिदेशक आरआर स्वैन ने कहा कि इतनी बड़ी संख्या में आतंकवादियों का सफाया करना एक बड़ी उपलब्धि है. स्वैन ने कहा कि अभियान की सफलता इस बात का संकेत है कि जम्मू-कश्मीर में आतंक के खात्मे की लड़ाई अपने अंजाम तक पहुंचेगी.

आतंकियों की थी बड़ी साजिश

आर्मी के इस ऑपरेशन में दो सुरक्षा बल भी शहीद हो गए। वहीं दो अलग-अलग जगह पर हुए एनकाउंटर में हिजबुल मुजाहिद्दीन के कुल 6 आतंकी मारे गए हैं। इस ऑपरेशन के बारे में बात करते हुए जम्मू कश्मीर के डीजीपी आर.आर स्वैन के अनुसार कुलगाम में छिपे ये आतंकी कोई बड़ी साजिश रच रहे थे, जिसे सुरक्षा बलों ने नाकाम कर दिया है।
सुरक्षा बलों ने मार गिराए 6 आतंकी

बता दें कि जम्मू कश्मीर में हुए पहले एनकाउंटर में दो आतंकियों को मारा गया। इस मुठभेड़ में एक जवान भी शहीद हो गया। दूसरा एनकाउंटर कुलगाम के चिनिगम में हुआ, जहां चार आतंकियों को ढेर किया गया। इस दौरान हुई गोलीबारी में एक और जवान की शहादत हो गई। 2 एनकाउंटर में मारे गए 6 आतंकी हिजबुल मुजाहिद्दीन के थे। कुलगाम में मारे गए आतंकियों की पहचान यावार बशीर धर, जहीद अहमद धर, तौहीद अहमद और शकील अहमद वाणी के रूप में की गई है।