तेजो महालय बताने वाली याचिका पर सुनवाई, एएसआई और पर्यटन निदेशालय रहा उपस्थित, अगली सुनवाई 29 को

आगरा

उत्तर प्रदेश के आगरा में सिविल जज जूनियर डिवीजन-6 में आर्य संस्कृति संरक्षण ट्रस्ट के तेजो महालय केस में भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग और संस्कृति मंत्रालय, भारत सरकार के सचिव उपस्थित हुए।

वादी व अधिवक्ता अजय प्रताप सिंह ने बताया कि महानिदेशक, पर्यटन निदेशालय, उत्तर प्रदेश सरकार की ओर से जिला शासकीय अधिवक्ता धर्मेंद्र कुमार वर्मा व भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग की ओर से अधिवक्ता विवेक कुमार आए थे। न्यायालय ने 21 मई की सुनवाई के दौरान वादी पक्ष को सभी विपक्षीगणों को नोटिस भेजने के आदेश दिए थे। बुधवार को सुनवाई के दौरान नोटिस भेजने का तलवाना और रजिस्ट्री की डिलीवरी रिपोर्ट पत्रावली में वादी पक्ष की ओर से दाखिल की गई।

पिछली तारीख को कामरेड भजन लाल ने आदेश 1 नियम 10 सिविल प्रकिया संहिता के अधीन विपक्षी बनने का आवेदन दिया था, जिस पर वादीपक्ष ने आपत्तियां पत्रावली में दाखिल कर दीं। तेजोमहालय केस में विपक्षी संख्या-1, सचिव संस्कृति मंत्रालय भारत सरकार, विपक्षी संख्या-2 महानिदेशक, भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग, विपक्षी संख्या-3 अधीक्षक, कार्यालय अधीक्षण पुरातत्ववेत्ता-आगरा, सर्किल विपक्षी संख्या-4 महानिदेशक, पर्यटन निदेशालय, उत्तर प्रदेश सरकार हैं।

अधिवक्ता अजय प्रताप सिंह ने बताया कि सभी विपक्षीगणों को नोटिस नियमानुसार तामील किए जा चुके है, जिसमें सुनवाई में विपक्षी संख्या-3 व 4 उपस्थित हो गया है, जिन्हें नियमानुसार वादपत्र की छायाप्रति उपलब्ध करवा दी गई है। तेजोमहालय केस न्यायाधीश शिखा सिंह के न्यायालय में विचाराधीन चल रहा है। न्यायालय ने सुनवाई की अगली तिथि 29 जुलाई नियत की है।